लोकसभा में उठा आतंकी सरगना मसूद अहजर का मुद्दा

नई दिल्ली। लोकसभा में भाजपा के एक सदस्य ने जैश ए मोहम्मद के प्रमुख और पठानकोट हमले के साजिशकर्ता मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र वैश्विक आतंकी घोषित करने के अमेरिकी प्रस्ताव को चीन द्वारा ‘ब्लॉक’ करने का मुद्दा उठाया और सरकार से आग्रह किया कि वह संबंधों पर पड़ने वाले प्रभावों के बारे चीन को बताये। शून्यकाल के दौरान भाजपा के आरके सिंह ने कहा, ”चीन का मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव को ब्लाक करने का कदम दुर्भाग्यपूर्ण है।”

उन्होंने कहा कि हम चीन के खिलाफ अपने विस्तृत बाजार का इस्तेमाल कर सकते हैं और उसके कुछ उत्पादों पर रोक लगा सकते हैं। हमें चीन को यह स्पष्ट करना होता कि मित्रता एकतरफा नहीं होती है। ताली दोनों हाथों से बजती है। सिंह ने कहा कि मसूद अजहर उरी और पठानकोट आतंकी हमले का मुख्य षड्यंत्रकर्ता है और चीन ने 3 बार उसे वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव को बाधित करने का काम किया है। ब्रिटेन, फ्रांस, अमेरिका समेत सभी देश इस प्रस्ताव के समर्थन में हैं और चीन ने इसे बाधित करने का काम किया है।

उल्लेखनीय है कि पठानकोट हमले के मास्टरमाइंड और पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र वैश्विक आतंकी घोषित किये जाने के अमेरिका प्रस्ताव का विरोध करते हुए चीन ने इसे ‘ब्लॉक’ कर दिया। अजहर को प्रतिबंधित करने के लिए ब्रिटेन और फ्रांस के समर्थन से अमेरिका ने पिछले महीने के दूसरे पखवाड़े में संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध समिति 1267 के समक्ष एक प्रस्ताव पेश किया। इस प्रस्ताव को स्थगित कर चीन ने अमेरिकी कदम का विरोध किया। इससे पहले पिछले साल दिसंबर में अजहर को संयुक्त राष्ट्र में प्रतिबंधित करने के भारत के प्रस्ताव को चीन ने ‘ब्लॉक’ कर दिया था।

Leave a Reply