आतंकवाद से खतरों से मिलकर लड़ेंगे भारत और माली

नई दिल्ली। आतंकवाद की पहचान ‘गंभीर खतरे’ के तौर पर करते हुए भारत और माली द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं बहुपक्षीय स्तरों पर एक-दूसरे से सहयोग करने को सहमत हो गए हैं ताकि आतंकवाद की समस्या से मुकाबला किया जा सके।

विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर की दो दिवसीय (दो-तीन मार्च) माली यात्रा के बाद विदेश मंत्रालय ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि दोनों देशों ने संयुक्त राष्ट्र सुधार, दक्षिण-दक्षिण सहयोग और अक्षय ऊर्जा को बढ़ावा देने जैसे साझा हित के मुद्दों पर भी विचारों का आदान-प्रदान किया।

विज्ञप्ति के मुताबिक, ‘दोनों पक्षों ने आतंकवाद की पहचान शांति एवं समृद्धि के लिए गंभीर खतरे के तौर पर की और इस समस्या से मुकाबले के लिए द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं बहुपक्षीय स्तरों पर एक-दूसरे से सहयोग करने पर सहमति जताई।’

Leave a Reply