बीजेपी ने माल्या के पत्रों को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा

नई दिल्ली। बजट सत्र से पहले कांग्रेस को घेरने की पहल करते हुए भाजपा ने आज विजय माल्या मामले का जिक्र करते हुए आरोप लगाया कि जिन ‘भ्रष्ट हाथों’ ने उन्हें बैंकों के समूहों से ऋण प्राप्त करने में मदद की वह तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और वित्त मंत्री पी चिदंबरम के थे। भाजपा ने कारोबारी विजय माल्या की ओर से सिंह को लिखे गए उन पत्रों को उद्धृत किया जिसमें माल्या ने उनसे हस्तक्षेप करने का आग्रह किया था और इसके बाद ही अब निष्क्रिय हो चुकी किंगफिशर एयरलाइन को ऋण प्राप्त हुआ था।

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी से यह बताने को कहा कि किसकी शह पर इस बकायेदार कंपनी को ऋण दिया गया। पात्रा ने संवाददाता सम्मेलन में इस विवाद को लेकर कांग्रेस नेतृत्व को घसीटते हुए आरोप लगाया कि तत्कालीन प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पुलक चटर्जी सिंह से फाइल लेकर सोनिया गांधी के आवास 10 जनपथ गए थे। उन्होंने कहा कि जिन हाथों ने यह सुनिश्चित किया कि माल्या को ऋण मिल जाए और जो अब स्पष्ट है। ये चिदंबरम और सिंह के थे।

पात्रा ने कहा कि क्या 10 जनपथ के हाथों ने तार खींचने का काम किया? सोनिया और राहुल गांधी को सार्वजनिक तौर पर यह बताना चाहिए कि किसकी शह पर किंगफिशर एयरलाइन को ऋण मंजूर किये गए। उन्होंने कहा कि ऐसा ही एक पत्र 14 नवंबर 2011 को माल्या ने सिंह को लिखा था कि तत्कालीन प्रधानमंत्री ने मीडिया को बताया था कि हमें किंगफिशर को संकट से बाहर निकालने का रास्ता तलाशना होगा। भाजपा नेता ने दावा किया कि माल्या ने बैंकों से तत्काल कोष जारी कराने के लिए सिंह से हस्तक्षेप करने का आग्रह किया था।

पात्रा के अनुसार, एक पत्र में माल्या ने कहा कि वह काफी राहत और प्रसन्नता महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सिंह को लिखे उनके पत्र के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय के एक शीर्ष अधिकारी ने बात की थी और मल्या ने इसका जिक्र किया है। पात्रा ने कहा कि मार्च 2013 को फरार शराब कारोबारी की ओर से चिदंबरम को लिखे कथित पत्र में एसबीआई से अनापत्ति प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए उनसे हस्तक्षेप करने का आग्रह किया गया था। माल्या के बचाव के बारे में पूछे जाने पर भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि वे एक चूककर्ता की बात नहीं सुनेंगे और अगर वे चाहते हैं कि उनकी बात सुनी जाए तो उन्हें वापस लौटना चाहिए।

Leave a Reply