सेना ने मुठभेड़ में शहीद दो जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की



श्रीनगर। सेना ने दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले में रविवार को आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में शहीद हुये दो जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। रक्षा प्रवक्ता ने बताया, ‘‘बादामी बाग छावनी में वीर दिवंगत लांस नायक भंडोरिया गोपाल सिंह मुनिमसिंह और सिपाही रघुवीर सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।’’ प्रवक्ता ने बताया कि सेना की चिनार कोर के चीफ ऑफ स्टॉफ मेजर जनरल के के पंत ने कोर कमांडर और कोर के अन्य सभी रैंक के जवानों की ओर से श्रद्धासुमन अर्पित किये।’’

उन्होंने बताया कि नागरिक प्रशासन एवं कश्मीर के संभागीय आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक, और खुफिया ब्यूरो के संयुक्त निदेशक समेत अन्य सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों ने भी वीर सैनिकों को श्रद्धासुमन अर्पित किये। उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान अपना जीवन आहुत करने वाले जवानों ने आतंकियों के छिपे होने के ठिकाने का पता पाकर उन्हें पकड़ने के लिए अदम्य साहस का परिचय दिया। लांस नायक भंडोरिया गोपाल सिंह मुनिमसिंह और सिपाही रघुवीर सिंह निस्वार्थ साहस के प्रतीक और कुलगाम के फ्रीसल क्षेत्र में यह अभियान शुरू करने वाले दल के प्रमुख थे। अभियान में चार आतंकियों का सफाया हो गया।

उन्होंने बताया, ‘‘आतंकियों ने संदिग्ध घर के अंदर से सुरक्षा बलों पर अधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी थी, जिसमें आतंकियों से लड़ते हुये दोनों वीर जवानों की शहादत हो गयी।’’ तैंतीस वर्षीय लांस नायक गुजरात में अहमदाबाद जिले के गोकुल चंद चाली चमनपुरा के रहने वाले थे और पिछले 14 सालों से सेना में तैनात थे। परिवार में उनकी पत्नी बी हेमवती हैं। सिपाही रघुवीर सिंह केवल 31 साल के थे और पिछले 13 सालों से सेना में कार्यरत थे। वह उत्तराखंड में चमोली जिले के मकहोली गांव के निवासी थे। परिवार में उनकी पत्नी रेखा और छह साल का एक पुत्र है। प्रवक्ता ने बताया, ‘‘सेना शहीद सैनिकों के बलिदान का सलाम करती है। सेना शोक संतप्त परिवार के साथ दृढ़ता से खड़ी है और उनका गरिमापूर्ण जीवन सुनिश्चित करना, हमेशा सेना की जिम्मेदारी रहेगी।’’ जवानों के पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए उनके पैतृक स्थान ले जाया जा रहा है।

Leave a Reply

TEVAR TIMES is Stephen Fry proof thanks to caching by WP Super Cache