कैप्टन की संपत्तियों पर आगजनी मामले में प्राथमिकी दर्ज



नई दिल्ली। सीबीआई ने पिछले साल फरवरी में जाट कोटा आंदोलन के दौरान रोहतक स्थित इंडस पब्लिक स्कूल और हरिभूमि प्रेस में कथित आगजनी के सिलसिले में दो अलग अलग मामले दर्ज किये हैं। सीबीआई सूत्रों ने बताया कि रिपोर्ट है कि ये संपत्तियां हरियाणा के मंत्री कैप्टन अभिमन्यु द्वारा संचालित न्यासों से संबंधित थीं। घटना के तकरीबन एक वर्ष बाद छह फरवरी, 2017 को केंद्र ने मामला सीबीआई को भेजा, जिसके बाद जांच एजेंसी का यह कदम सामने आया है।

फरवरी, 2016 में हरियाणा में जाटों के हिंसक कोटा आंदोलन के दौरान कम से कम 30 लोगों की मौत हो गयी थी और करोड़ों रुपये की संपत्ति नष्ट हो गयी थी। प्रदर्शनकारी जाट समुदाय के लिये अन्य पिछड़ा वर्ग के तहत सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण की मांग कर रहे थे। आरोप है कि 19 फरवरी की शाम कुछ लोग रोहतक स्थित स्कूल के आस पास जमा हो गये और उन्होंने स्कूल के गार्ड को धमकी दी तथा तोड़फोड़ की। तेल कनस्तरों और छड़ों से लैस करीब 100-150 लोगों की भीड़ ने 20 फरवरी को स्कूल के आसपास जमा होकर कथित रूप से संपत्ति की तोड़फोड़ की और इमारत, स्कूल की बसों एवं अन्य वाहनों में आग लगा दी।

शिकायत में स्कूल के गार्ड ने इलाके के कुछ पूर्व ग्राम प्रमुखों सहित कई व्यक्तियों का नाम लिया है। गार्ड के बयान के आधार पर सीबीआई ने 10 लोगों के खिलाफ दंगा भड़काने और आगजनी करने का मामला दर्ज किया है। दूसरी प्राथमिकी रोहतक स्थित हरिभूमि प्रेस में कथित आगजनी से संबद्ध है, जिसे 19-20 की दरम्यानी रात को भीड़ ने आग के हवाले कर दिया था। प्रेस प्रबंधक के बयान के आधार पर आठ लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है। आरोप है कि कथित दंगे के कारण 15.50 करोड़ रुपये की क्षति हुई है।

Leave a Reply

1 Trackback

TEVAR TIMES is Stephen Fry proof thanks to caching by WP Super Cache