कल तय होगा UP के नए CM का नाम, PM मोदी समारोह में होंगे शामिल



यूपी में प्रचंड बहुमत से जीतने वाली बीजेपी कल यानी शनिवार को राज्य के नए मुख्यमंत्री का ऐलान करेगी.

नई दिल्ली: यूपी में प्रचंड बहुमत से जीतने वाली बीजेपी कल यानी शनिवार को राज्य के नए मुख्यमंत्री का ऐलान करेगी. बीजेपी के विधायक दल की बैठक शनिवार को शाम चार बजे होगी और कुछ ही देर बाद यूपी के नए मुख्यमंत्री का ऐलान कर दिया जाएगा.

आईआईटी-बीएचयू के पूर्व छात्र मनोज सिन्हा यूपी सीएम की रेस में पीएम मोदी की पसंद, संभालेंगे यूपी की कमान !

नए सीएम 19 मार्च को लेंगे शपथ

उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री 19 मार्च को शपथ लेंगे जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस समारोह में शामिल होंगे. उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री का नाम तय करने के लिए शाह पार्टी के शीर्ष नेताओं के साथ बैठकें करते रहे हैं . दोनों राज्यों में भाजपा को प्रचंड बहुमत मिला है .

यूपी चुनाव के नतीजों पर PM मोदी ने दिया रवि शास्त्री के ट्वीट का जवाब

रेस में मौर्या और राजनाथ के नाम भी

मुख्यमंत्री पद के लिए केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केन्द्रीय मंत्री मनोज सिन्हा और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य के नाम आगे चल रहे हैं. राजनाथ सिंह प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. अनुभवी और बडे कद के नेता हैं. सिन्हा का भी प्रशासनिक अनुभव अच्छा है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से मजबूत रिश्ते रखने वाले केन्द्रीय मंत्री महेश शर्मा का नाम भी संभावितों की श्रेणी में है.

भावी मुख्यमंत्री को लेकर सस्पेंस बरकरार

उत्तर प्रदेश में भावी मुख्यमंत्री को लेकर ‘सस्पेंस’ बरकरार है. कई विधायक आलाकमान से बातचीत के लिए दिल्ली गये. जातीय समीकरण भी हैं, जिनकी मदद से भाजपा को प्रचंड जीत मिली. पार्टी को यह भी पता है कि जिस तरह से सवर्ण जातियों और गैर यादव ओबीसी ने भाजपा को बंपर वोट दिये, वह जातीय संतुलन नहीं बिगाडना चाहेगी. ऐसी चर्चाएं भी हैं कि एक समुदाय का मुख्यमंत्री बनाया जाएगा और संतुलन बनाये रखने के लिए अन्य समुदाय से उप मुख्यमंत्री बनेगा. पार्टी निश्चित तौर पर किसी ऐसे व्यक्ति को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर देखना चाहेगी जो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विकास के एजेंडे को आगे बढा सके और सपा शासनकाल में बदतर हुई कानून व्यवस्था को दुरूस्त कर सके.

यूपी में बीजेपी ने जीती है 325 सीटें

भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को उत्तर प्रदेश के भावी मुख्यमंत्री के बारे में अभी फैसला लेना है. कुल 403 सदस्यीय विधानसभा के चुनावों में भाजपा और उसके सहयोगी दलों ने रिकार्ड 325 सीटें जीती हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर उत्तर प्रदेश के मामले में पार्टी कोई गलत फैसला नहीं लेना चाहती. उत्तर प्रदेश से लोकसभा के लिए 80 सदस्य चुने जाते हैं. विधानसभा चुनावों की जबर्दस्त जीत से आम जनता की उम्मीदें बहुत ज्यादा हैं, जिन्हें पूरा करना चुनौती होगी.

Leave a Reply

TEVAR TIMES is Stephen Fry proof thanks to caching by WP Super Cache