UP के CM योगी का सख्त आदेश, सरकारी दफ्तरों में पान-गुटखा बैन

सीएम योगी का सख्त आदेश, सरकारी दफ्तरों में पान-गुटखा बैन

लखनऊः यूपी में योगी आदित्यनाथ की सरकार ने आज एक और बड़ा फैसला लेते हुए राज्य सरकार के दफ्तरों में पान-गुटखा पर प्रतिबंध लगा दिया है. ख़बर है कि वो सचिवालय में पान की पीक देखकर नाराज़ हो गए थे जिसके बाद उन्होंने ये आदेश दिया. योगी के इस आदेश के बाद उत्तर प्रदेश में सरकारी दफ्तरों में अब कर्मचारी से लेकर अधिकारी तक गुटखा और पान मसाला नहीं खा पाएगा.

यानि अब लोकभवन व सचिवालय में गुटखा और पान पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लागू कर दिया गया है. यदि कोई खाता पाया गया तो उससे जुर्माना भी वसूला जाएगा. उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य ने संवाददाताओं को बताया कि मुख्यमंत्री ने एनेक्सी भवन के सभी तलों का निरीक्षण करके निर्देश दिये कि परिसर में स्वच्छ और स्वस्थ वातावरण बनाया जाए. डिप्टी सीएम ने बताया कि सीएम ने अधिकारियों से कहा है कि स्वच्छता का ध्यान रखें पान गुटखा इत्यादि खाकर परिसर में गंदगी ना करें.

वाराणसी में एक बूचड़खाना सील

वाराणसी के जैतपुरा पुलिस थाना क्षेत्र के कमलगदाहा इलाके में जिला प्रशासन ने कथित रूप से गैरकानूनी तरीके से चलाया जा रहा एक बूचड़खाना सील कर दिया. पुलिस अधिकारियों ने कहा कि योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भाजपा सरकार के गठन के दो दिन बाद ही यह घटनाक्रम सामने आया. अधिकारियों ने दावा किया कि 2012 में बूचड़खाना बंद कर दिया गया था लेकिन वहां गुप्त तरीके से काम चलता रहा. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, नगर निगम अधिकारियों की एक संयुक्त टीम ने प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों के साथ कार्रवाई करते हुए बूचड़खाना सील कर दिया और साथ ही पांच दर्जन से अधिक मवेशी बरामद किए. अधिकारियों ने कहा कि बूचड़खाने के प्रबंधक मवेशियों से जुड़ा वैध दस्तावेज दिखाने में नाकाम रहे जिसके बाद बूचड़खाना सील कर दिया गया.

यूपी: ऑपरेशन रोमियो से मनचलों के साथ ही होटल संचालकों में मची खलबली

इलाहाबाद में दो बूचड़खानों को सील किया गया

ऐसा पता चला है कि प्रबंधकों ने अधिकारियों से कहा कि मवेशियों को अस्थायी तौर पर लाया गया था और दूसरी जगहों पर भेजा जाना था. उन्होंने साथ ही इस बात से इनकार किया कि वहां मवेशियों को काटा जाता था. इससे पहले आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के थोड़े ही समय बाद इलाहाबाद में दो बूचड़खानों को सील कर दिया गया था. भाजपा ने अपने चुनाव घोषणापत्र में कहा था कि वह सत्ता में आने पर सभी गैरकानूनी बूचड़खाने बंद करने के लिए कड़े कदम उठाएगी और यांत्रिक बूचड़खानों पर प्रतिबंध लगा देगी

Leave a Reply