वेजिटेरियन हुआ लखनऊ, हड़ताल पर रहे मीट व्यापारी, दी पूरे प्रदेश में दी आंदोलन की धमकी



वेजिटेरियन हुआ लखनऊ, हड़ताल पर रहे मीट व्यापारी

नई दिल्ली: योगी सरकार द्वारा बूचड़खानों पर कार्रवाई का विरोध करते हुए लखनऊ के गोश्त विक्रेता शनिवार को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए. चिकन विक्रताओं ने अपने शटर बंद कर दिए हैं और कहा है कि सोमवार से आंदोलन तेज होगा.
शहर में मटन और चिकन की तकरीबन 5,000 दुकानें बंद कर दी गईं. लखनऊ के कई मशहूर नॉनवेज रेस्तरां के मालिकों ने एकजुटता दिखाते हुए अपनी दुकानें बंद रखीं.

लाइसेंस वाले कई दुकानदार इस हड़ताल में शामिल नहीं

मीट मुर्गा व्यापार कल्याण समिति ने रविवार से पूरे राज्य में हड़ताल का ऐलान किया है. हालांकि लाइसेंस वाले कई दुकानदार इस हड़ताल में शामिल नहीं हैं लेकिन बाजार में मीट के बिजनस को लेकर चिंता का माहौल है.

योगी इफेक्ट : 105 साल में पहली बार बंद रही ‘टुंडे कबाबी’ की दुकान, नॉनवेज प्रेमी अब नहीं ले पाएंगे ‘बड़े के कबाब’ का स्वाद

लखनऊ बकरा गोश्त व्यापार मंडल के मुबीन कुरैशी ने बताया कि इस कार्रवाई से मीट विक्रेताओं पर बुरा असर पड़ा है. इस कारोबार में लगे लाखों लोगों के समक्ष रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है.

उन्होंने कहा कि मटन और चिकन विक्रेता पहले ही दुकानें बंद कर चुके हैं. अब मछली विक्रेताओं को भी साथ लेने की कोशिश हो रही है और वे भी जल्द हमारे साथ आंदोलन में शामिल होंगे.

 योगी का बूचड़खानों पर वार जारी, अब तक 300 से ज्यादा सील

सत्ता में आते ही योगी सरकार ने अवैध बूचड़खानों को बंद करने के आदेश दिए हैं. गो तस्करी और गोवध पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया. विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने प्रदेश की जनता से यह वादा किया था.

मीट व्यापारियों का दावा है कि मंडी में अब माल नहीं है. जिन्होंने स्टाक रखा था, उनका माल भी खत्म हो गया है. आसपास के जिलों से माल लेकर कोई ट्रक मंडी नहीं पहुंचा.

Leave a Reply

TEVAR TIMES is Stephen Fry proof thanks to caching by WP Super Cache