गर्भवती महिला ने मोदी को लिखी चिट्ठी, मैंने आपको वोट दिया है, ‘तीन तलाक’ से दिलाएं आजादी



शगुफ्ता साह को उसके पति ने गर्भपात कराने लिए मजबूर किया

लखनऊ: ‘तीन तलाक’ की पीड़ित शगुफ्ता शाह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर इस शैतानी इस्लामिक परंपरा को जल्द से जल्द खत्म करने को कहा है. लखनऊ की रहने वाली शगुफ्ता दो बच्चों की मां हैं.
बुधवार को मिली रिपोर्ट के मुताबिक अपने पति द्वारा अपमानित होने के बाद शगुफ्ता शाह ने खुद पर गुजरी तकलीफों को बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखने का फैसला किया. शगुफ्ता के पति ने उससे तीसरे बच्चे को पेट में ही गिराने (गर्भपात) की बात कही थी.

पत्र में शाह ने बताया कि अपने दर्द को बयां किया है कि किस तरह से वह तीसरी बार गर्भवती हुई और कैसे उसके पति शमशाद सईद ने उसे गर्भपात कराने को कहा क्योंकि उसे (शमशाद को) डर था कि तीसरी बार भी लड़की ही जन्म लेगी.

शगुफ्ता ने पति की बात मानने से इंकार करते हुए बच्चा गिराने से मना कर दिया. जिसके बाद उसके पति ने उसे बुरी तरह से पीटा और ‘तीन तलाक’ कहने के बाद सड़क किनारे मरने के लिए छोड़ दिया.

मूल रूप से सहारनपुर रहने वाली महिला को पुलिस से थोड़ी मदद मिली और उसने फैसला किया कि इस मामले में वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दखल देने को कहेंगी.

शगुफ्ता शाह ने कहा, ‘मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर उनसे ‘तीन तलाक’ को खत्म करने का निवेदन किया है. मैंने उनको वोट दिया है और मैं आशा करती हूं कि अब मुझे न्याय मिलेगा.’ शगुफ्ता ने बताया कि उसे इसकी प्रेरणा सहारनपुर की निवासी और मित्र अतिया साबरी से मिली.
उसने बाद में पत्र में लिखा, ‘मिस्टर प्रधानमंत्री, यह मेरी विनती है कि कृपया इस गरीब और असहाय महिला की मदद करें. मैं आपसे यह भी निवेदन करती हूं कि आप इस बात को आश्वस्त करें कि ‘तीन तलाक’ जैसी शैतानी इस्लामिक परंपरा खत्म हो, ताकि मुझ जैसी और अन्य पीड़ितों को न्याय मिल सके और हम एक सम्मानित जीवन जी सकें.’

Leave a Reply

TEVAR TIMES is Stephen Fry proof thanks to caching by WP Super Cache