कुलभूषण मामले में आईसीजे में भारत ने रखा अपना पक्ष

हेग। अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत ने आज भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में सुनाई गई सजा ए मौत पर सुनवाई शुरू की। भारत ने पहले अपना पक्ष पेश किया। दोनों पक्षों को 90-90 मिनट मिलेंगे। भारत की ओर से पक्ष रखते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने कहा कि पाकिस्तान ने लगातार भारत को कूटनीतिक पहुंच देने से इनकार किया है और जाधव की सुनवाई प्रक्रिया के कोई दस्तावेज नहीं दिए गए। भारत ने कहा कि पाकिस्तान ने ‘‘बुनियादी’’ समझे जाने वाले मानवाधिकारों की धज्जियां उड़ा दीं और कुलभूषण यादव को कूटनीतिक पहुंच मुहैया कराने के तमाम आग्रह अनसुने कर दिए गए। साल्वे ने कहा कि मौजूदा हालात गंभीर हैं और यही वजह है कि भारत ने आईसीजे का हस्तक्षेप चाहा है। भारत ने कुलभूषण जाधव की सजा तत्काल निलंबित करने का आह्वान किया और कूटनीतिक पहुंच की वियेना कन्वेंशन का उल्लंघन करने का पाकिस्तान पर आरोप लगाया।

न्यायाधीश ने अपनी शुरूआती टिप्पणियों में कहा कि भारत को अपना पक्ष रखने के लिए 90 मिनट के बाद भी एक ‘‘संक्षिप्त विस्तार’’ मिल सकता है। पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने जासूसी और विध्वंसक गतिविधियों के संबंध में 46 वर्षीय भारतीय नागरिक जाधव को सजाए मौत सुनाई थी। भारत ने आठ मई को पाकिस्तान पर कूटनीतिक रिश्तों पर वियेना कन्वेंशन का उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए सजाए मौत के खिलाफ अपील की थी। भारत का कहना था कि पाकिस्तान ने जाधव की कूटनीतिक पहुंच के उसके 16 आग्रह ठुकरा दिए। अपील के अगले दिन आईसीजे ने सजा पर स्थगनादेश लगा दिए।

 

Leave a Reply

TEVAR TIMES is Stephen Fry proof thanks to caching by WP Super Cache