मोबाइल पॉलिटिक्स : भाजपा सांसदों से बोले मोदी- मोबाइल के जरिये जीतेंगे अगला चुनाव

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में मिली बड़ी जीत के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है. भाजपा सांसदों को मिशन 2019 के लिए विजय मंत्र देते हुए मोदी ने कहा कि अगला चुनाव मोबाइल फोन के जरिये लड़ा जाएगा. ‘सांसदों के साथ संवाद’ की आखिरी बैठक में मोदी ने शुक्रवार को साफ किया कि राजनीतिक-सामाजिक परिदृश्य बदल रहा है. सोशल मीडिया सबसे प्रभावी संवाद माध्यम बन कर उभरा है। व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर के जरिये आप लोगों से सीधा संवाद कर सकते हैं.
य मंत्र देते हुए मोदी ने कहा कि अगला चुनाव मोबाइल फोन के जरिये लड़ा जाएगा. ‘सांसदों के साथ संवाद’ की आखिरी बैठक में मोदी ने शुक्रवार को साफ किया कि राजनीतिक-सामाजिक परिदृश्य बदल रहा है. सोशल मीडिया सबसे प्रभावी संवाद माध्यम बन कर उभरा है। व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर के जरिये आप लोगों से सीधा संवाद कर सकते हैं.

गेमचेंजर साबित हो सकती है मोबाइल पॉलिटिक्स

एक अनुमान के मुताबिक 2019 तक देश में 10 करोड़ से ज्यादा नए वोटर्स, 120 करोड़ मोबाइल और 73 करोड़ इंटरनेट यूजर्स होंगे. ऐसे में पीएम मोदी की ‘मोबाइल पॉलिटिक्स’ गेमचेंजर साबित हो सकती है. पांच समूहों में सांसदों के साथ संवाद की आखिरी बैठक में प्रधानमंत्री ने साफ किया कि सांसदों को लोगों के पास जाना ही होगा. हर जगह हर रोज नहीं पहुंचा जा सकता, लेकिन सोशल मीडिया के जरिये लोगों के साथ, समाज के सभी वर्गो के साथ सतत संपर्क रखा जा सकता है. हाल के चुनावों में सोशल मीडिया और मोबाइल फोन की अहम भूमिका रही है। जनता जिससे जुड़ी है, हमें भी उसी माध्यम से संवाद करना होगा। मोदी ने कहा, सियासत और संवाद दोनों के रूप बदल गए हैं, उसके साथ बदलकर ही हमें आगे बढ़ना होगा होगा.

यूपी चुनाव में बनाई थी हाईटेक सेल

इंटरनेट और सोशल साइट्स पर लगातार सक्रिया पीएम मोदी की नजर शायद 2019 में भी युवाओं के भरोसे चुनाव जीतने की है. 2014 के चुनाव में राजग की जीत में सोशल मीडिया ने अहम भूमिका निभाई थी. भाजपा ने यूपी चुनाव के दौरान भी लखनऊ में एक हाईटेक सेल बनाई थी. इसके जरिए केंद्र में मोदी सरकार के कामों का भरपूर प्रचार किया गया था.

पीएम मोदी का जोर मोबाइल पर क्यों?

देश में युवा मतदाताओं की संख्या और मोबाइल यूजर्स के आंकड़े पीएम मोदी के भरोसे की मजबूत करते हैं। देश के युवाओं का 88 प्रतिशत हिस्सा कंप्यूटर, मोबाइल और टैबलेट के जरिए सोशल साइट्स से जुड़ा है. 31 दिसंबर 2016 तक भारत में 112 करोड़ मोबाइल यूजर थे जिसके 2019 तक 120 करोड़ होने का अनुमान है. मोबाइल इंटरनेट यूजर्स में पिछले साल 96 प्रतिशत से ज्यादा वृद्धि दर्ज की गई. इसके अलावा 2016 में देश में इंटरनेट यूजर्स 34 करोड़ थे जिसके 2019 में 72 करोड़ तक पहुंचने का अनुमान है. मोदी को लगता है कि मोबाइल से पॉलिटिक्स कर चुनाव जीतने में आसानी होगी.

सोशल साइट्स पर मोदी का जलवा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का तमाम सोशल साइट्स पर जलवा है. सिर्फ फेसबुक और ट्विटर की बात करें तो फेसबुक पर मोदी को पसंद करने वाले लोगों की संख्या करीब 4 करोड़ हैं. माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर पीएम मोदी के 2.85 करोड़ फॉलोअर्स है. 2009 से मोदी ने अब तक 14 हजार से ज्यादा ट्वीट किए हैं. ट्विटर पर पीएम मोदी की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में जीत के बाद मोदी के ट्वीट ‘भारत की विजय’ अच्छे दिन आने वाले हैं’ को 51,000 बार री-ट्वीट और 32,000 लोगों ने लाइक किया.

Leave a Reply

TEVAR TIMES is Stephen Fry proof thanks to caching by WP Super Cache