शुभकामनाएँ

– हितेश कुमार शर्मा

विजयादशमी और दीवाली तुमको, मुझको सबको शुभ हो।
ईश हमें आशीष यहीं दें, जीवन में वुफछ नहीं अशुभ हो।

नवरात्रों की दुर्गा माँ की, तुम पर कृपा रहे सुखदायी।
लक्ष्मी मैया तब आँगन में, पूरे वर्ष करें पहुनायी।
मेरी शुभकामना यही है, हर पल, हर दिन तुमको शुभ हो।

बीते कल की सुन्दर सुधियाँ, सदा रहे तुमको दुलराती।
कटुता भरी पुरानी यादें, चुभें नहीं आकर दिन-राती।
मन-भावन सा हो हर मौसम, शीत-ग्रीष्म-बरखा सब शुभ हो।

सीमा वेफ प्रहरी सैनिक भी, निर्भय हो त्योहार मनाएँ।
उनवेफ परिजन-पुरजन को भी, शुभ दे शुभ हों सुकामनाएँ।
अनगिन दीप सरीखी अनगिन, शुभकामना सभी को शुभ हो।

एक दीप उनकी स्मृति में, जो शहीद हो गए वतन पर।
शांति मिले उनकी आत्मा को, कष्ट न हो कोई परिजन पर।
देशभक्त को, मातृभक्त को, जीवन का हर पलछिन शुभ हो।

आओ खुशिओं वेफ संग बाँटे, खील, खिलौने और मिठाई।
अहंकार से, द्वेष- दंभ से, मुक्ति मिले सभी को भाई।
अजनबियों से सजग रहे हम, अपनों को सब शुभ ही शुभ हो।

Leave a Reply