देश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ होने चाहिएः मोदी

कानपुर। देश में लोकसभा और विधानसभा चुनावों को पांच साल में एक बार साथ साथ कराने की वकालत करते हुये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि ऐसा होने से चुनाव के समय होने वाले तनाव में तो कमी आएगी ही साथ ही देश में कालेधन के इस्तेमाल के अवसर भी कम होंगे। इसी तरह हम इस लोकसभा सत्र में इस बात पर भी चर्चा करना चाहते थे कि राजनीतिक पार्टियों को चंदा कैसे मिलना चाहिये लेकिन विपक्षी पार्टियों ने संसद चलने नहीं दी।

नोटबंदी पर उन्होंने कहा कि हमने वायदा किया था कि पचास दिनों में जनता की परेशाानियां कम हो जायेंगी, आज हम आपको दोबारा फिर विश्वास दिलाना चाहते है कि अब परेशानियां कम होने की शुरूआत हो रही है। देश के उज्ज्वल भविष्य के लिये जनता ने बहुत कष्ट झेला है लेकिन वह अपने स्वार्थ के लिये नहीं झेला बल्कि देश की भलाई के लिये झेला है और जनता को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि उसे निराश नहीं होना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में परिवर्तन की लहर नही आंधी चल रही है और ऐसा लग रहा है कि उत्तर प्रदेश का हर नागरिक परिवर्तन का संकल्प पूर्ण करने को लेकर जी जान से जुट गया है। यूपी के लोग गुंडागर्दी से तंग आ चुके हैं हर कोई गुंडागर्दी कर रहा है। सरकार में बैठे लोग गुंडागर्दी करने वालो को शै दे रहे हैं। मकान छीन लिया जाए जमीन छीन ली जाए। आम आदमी जाएगा कहां। जब तक उत्तर प्रदेश में सरकार नहीं बदलोगे इस पर लगाम नहीं लगेगी।

प्रधानमंत्री मोदी आज कानपुर के बाहरी क्षेत्र निरालानगर रेलवे ग्राउंड पर भाजपा की परिवर्तन रैली को संबोधित कर रहे थे। करीब सवा एक बजे कानपुर पहुंचे मोदी ने पहले कौशल विकास प्रदर्शनी का उदघाटन किया। उसके बाद उन्होंने मंच से जनता को संबोधित किया। मोदी ने नोटबंदी को लेकर विपक्षी कांग्रेस पर जमकर हमले किये तो उत्तर प्रदेश सरकार को भी नहीं बख्शा। उन्होंने जनता को विश्वास दिलाया कि नोटबंदी से परेशानी के दिन अब समाप्त होने वाले हैं।

Leave a Reply