अखिलेश और रामगोपाल यादव का समाजवादी कुनबे में वापसी, निष्कासन रद्द

लखनऊ। समाजवादी कुनबे में चरम पर पहुंचे घमासान का बेहद नाटकीय ढंग से पटाक्षेप हो गया। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सपा से बर्खास्तगी के बाद पहली बार आज पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव से मुलाकात करने पहुंचे और मुलायम ने अखिलेश और अपने भाई रामगोपाल यादव का निष्कासन खत्म कर दिया। सबसे दिलचस्प यह रहा कि अखिलेश के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी चाचा और सपा के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने मुख्यमंत्री और रामगोपाल का निष्कासन रद्द किये जाने का ऐलान किया।

शिवपाल ने ‘ट्वीट’ करके कहा ‘‘नेताजी (मुलायम सिंह यादव) के आदेश के अनुसार अखिलेश यादव और रामगोपाल यादव का पार्टी से निष्कासन तत्काल प्रभाव से समाप्त किया जाता है। सब साथ मिलकर साम्प्रदायिक ताकतों से लड़ेंगे और पुन: उत्तर प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएंगे।’’ बाद में संवाददाताओं से बातचीत में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री समेत पार्टी के सभी शीर्ष नेता बातचीत करके प्रत्याशी तय कर लेंगे। सब लोग नेताजी (मुलायम) से बात करके सभी चीजें तय कर लेंगे। सभी मिलकर 2017 के चुनाव में जाएंगे और प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएंगे। अब सब ठीक हो गया है। सपा महासचिव रामगोपाल यादव द्वारा रविवार को बुलाये गये राष्ट्रीय प्रतिनिधि सम्मेलन के भविष्य के सवाल पर शिवपाल ने कहा ‘‘अब सभी बातें खत्म हो गयी हैं। हम सब मिलकर चुनाव में जाएंगे।’’

समाजवादी पार्टी में दो फाड़ की नौबत के बीच आज मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा ‘शक्ति प्रदर्शन’ के बाद दोनों पक्षों में सुलह-समझौते की कोशिशें तेज हुई। सपा के वरिष्ठ नेता और काबीना मंत्री आजम खां इस कवायद के सूत्रधार रहे। पल-पल बदलते घटनाक्रम के बीच थोड़ी ही देर बाद अखिलेश आजम खां के साथ मुलायम के घर गये और बंद कमरे में बैठक की। बैठक के दौरान अखिलेश के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी चाचा और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव भी मुलायम के घर पहुंचे।

गौरतलब है कि सत्तारूढ़ समाजवादी कुनबे में घमासान के बीच सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने शुक्रवार को बेहद सख्त कदम उठाते हुए अपने मुख्यमंत्री पुत्र अखिलेश यादव और अपने भाई पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव को पार्टी से छह साल के लिये निष्कासित कर दिया। सपा प्रमुख ने मुख्यमंत्री अखिलेश और महासचिव रामगोपाल को कारण बताओ नोटिस जारी करने के महज पौन घंटे के अंदर प्रेस कांफ्रेंस करके दोनों को पार्टी से निकालने का फरमान सुना दिया था। मुलायम ने रामगोपाल द्वारा आगामी एक जनवरी को पार्टी का राष्ट्रीय प्रतिनिधि सम्मेलन बुलाये जाने को अवैध करार देते हुए कहा था कि इससे पार्टी को नुकसान हुआ है और चूंकि रामगोपाल के कृत्य में अखिलेश का भी समर्थन है, इसलिये उन्हें भी पार्टी से छह साल के लिये निकाल दिया गया है।

Leave a Reply