मोदी के रोड शो में बाहर से लोग लाये गये थेः मायावती

वाराणसी। बसपा प्रमुख मायावती ने आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यहां रोड शो में दिखाई पड़ने वाले लोग ‘महज दर्शक’ थे और उन्हें अन्य राज्यों और उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों में जहां मतदान हो चुके हैं, वहां से लाया गया था। वाराणसी से 20 किलोमीटर दूर रोहनिया में एक रैली में उन्होंने कहा कि भाजपा और सपा-कांग्रेस गठबंधन उत्तर प्रदेश चुनाव में दूसरे और तीसरे स्थान के लिए लड़ रही है। मायावती ने कहा, ‘‘भाजपा यहां मोदी के रोड शो में जुटी भारी भीड़ की ओर टकटकी बांधकर देख रही है। हालांकि, जो लोग प्रधानमंत्री की जय-जयकार कर रहे थे, मुझे पता चला है कि वो सिर्फ तमाशबीन थे, जिन्हें अन्य जिलों से लाया गया था, जहां पहले ही मतदान हो चुका है। साथ ही बिहार और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों से भी लोगों को लाया गया था।’’

उन्होंने कहा कि भाजपा ने समूचे केंद्रीय मंत्रिमंडल को लगा दिया है और पार्टी के आला अधिकारी प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में हैं। मायावती ने कहा, ‘‘उन्होंने अपनी ऊर्जा दूर-दूर से भीड़ को लाने में झोंक दी है। लेकिन कहीं भी चुनाव में स्थानीय लोग ही मतदान करते हैं। हमारी विशाल रैली में यहां स्थानीय लोगों ने हिस्सा लिया, जो साबित करता है कि यह बसपा है जिसे वास्तव में जनता का समर्थन हासिल है और राज्य में अगली सरकार बनाने को तैयार है।’’

प्रधानमंत्री के काशी विश्वनाथ और काल भैरव मंदिर का दर्शन करने पर निशाना साधते हुए बसपा प्रमुख ने कहा कि उन मंदिरों में प्रार्थना करने का कोई फायदा नहीं होगा। उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा की टोपी पहनकर और भाजपा का झंडा लेकर सड़क के किनारे खड़े होकर प्रधानमंत्री के काफिले पर फूल बरसाने के लिए जिन लोगों को रखा गया है वे चुनाव में पार्टी के लिए मतदान नहीं करेंगे।’’ बसपा प्रमुख ने सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करने के लिए कांग्रेस पर भी हमला किया।

उन्होंने कहा कि सपा के खिलाफ लोगों में काफी गुस्सा है। उन्होंने कहा, ‘‘राहुल गांधी और अखिलेश यादव का साथ मिलकर रोड शो करना इस बात को दर्शाता है कि भाजपा और सपा-कांग्रेस गठबंधन ने हार मान ली है और अब वे दूसरे स्थाने के लिए एक-दूसरे के खिलाफ लड़ रही हैं। दोनों सिर्फ दूसरे और तीसरे स्थान के लिए लड़ रहे हैं।’’ मायावती ने मौजूदा चुनाव में तकरीबन 100 मुस्लिम उम्मीदवार उतारे हैं। उन्होंने मुस्लिम समुदाय को सपा-कांग्रेस गठबंधन का समर्थन करके अपने वोट को बर्बाद नहीं करने के लिए आगाह किया। उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस लंबे समय से राज्य की राजनीति में अप्रासंगिक है, जबकि सपा कटु पारिवारिक झगड़े में उलझी हुई है, जिसकी वजह से अलग-अलग धड़ा एक-दूसरे को हराने में लग सकता है।’’

Leave a Reply