लखनऊ। उत्तर प्रदेश, UP में शराबबंदी को लेकर योगी सरकार ने अपना रुख स्पष्ट कर दिया है। आबकारी मंत्री जयप्रताप सिंह ने कहा है कि गुजरात, बिहार और पंजाब की तर्ज पर यूपी में शराबबंदी कानून लागू नहीं किया जाएगा।

विधानसभा में बोलते हुए आबकारी मंत्री ने कहा कि शराब के उपभोग पर पाबंदी लगाने से अवैध शराब के कारोबार को बढ़ावा मिलेगा। इसकी वजह से व्यापक जनहानि की आशंका रहती है। उन्होंने कहा, “ जनहित और राजस्व हित में प्रदेश में शराबबंदी लागू किया जाना उचित नहीं है। कांग्रेस के अजय कुमार लल्लू ने शून्यकाल में शराबबंदी का मुद्दा उठाया।

जवाब में जयप्रताप सिंह ने कहा कि पिछले 70 सालों में से 50 सालों में कांग्रेस की सरकारें रही हैं, लेकिन तब उन्हें शराबबंदी की याद नहीं आई। प्रदेश सरकार को शराब के उत्पादन, वितरण और नियंत्रण का अधिकार प्राप्त है। इससे राज्य सर्कार को बड़े राजस्व की प्राप्ति होती है। इसका उपयोग प्रदेश में जनकल्याण और विकास योजनाओं के संचालन में किया जाता है।