लखनऊ। शिया पर्सनल ला बोर्ड ने शिया वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी (Wasim Rizvi) के बयान और उनकी हरकतों को ढोंग बताते हुए कहा है कि वसीम रिज़वी पूरी शिया क़ौम को बदनाम कर रहे हैं।

No Muslim will tolerate temple in place of Babri Masjid: Wasim Rizvi
No Muslim will tolerate temple in place of Babri Masjid: Wasim Rizvi

वह अपने आपको क़ानूनी गिरफ़्त से बचाने के लिए आरएसएस की भाषा बोल रहे हैं। बोर्ड ने कहा है कि अयोध्या में राम मन्दिर बने, इससे किसी भी मुसलमान को कोई आपत्ति नहीं, परन्तु बाबरी मस्जिद के स्थान पर क़ब्ज़ा करके उस पर मन्दिर बनाया जाये, यह कोई भी मुसलमान बर्दाश्त नहीं करेगा।

बोर्ड के फ़ाऊन्डर व जनरल सेक्रेट्री मौलाना सैय्यद अली हुसैन रिज़वी कु़म्मी ने आईपीएन को भेजे अपने बयान में कहा है कि वसीम रिज़वी का यह ढोंग है कि वह अयोध्या जाकर मन्दिरों में फूल चढ़ा रहे हैं। तमाम साधू सन्तों से मिलकर बातचीत का रास्ता निकालने का नाकाम प्रयास कर रहे हैं।

वसीम शिया क़ौम के ठेकेदार नहीं हैं। कहा कि शिया वक़्फ़ बोर्ड की करोड़ों की प्रापर्टी का ख़ुर्द बुर्द करने वाला जो कोर्ट से ज़मानत पर है वह क़ौम का नेता बनना चाह रहा है। वक़्फ़ बोर्ड का चेयरमैन, सरकारी पद होता है।

उस पर रहते हुए इस प्रकार की हरकतों पर सरकार को संज्ञान में लेना चाहिये। कहा कि वसीम आज़म ख़ाँ के बहुत चहीते थे, आज आज़म ख़ाँ किस बिल में घुसे हैं? क्या वह भी मस्जिद को राम मन्दिर बनाना चाहते हैं।

कुम्मी ने कहा कि श्री श्री रवी शंकर ने भी अयोध्या का दौरा किया। तमाम साधू सन्तों से मिले, बाबरी मस्जिद, राम जन्म भूमि मामले को बातचीत द्वारा हल करने का प्रयास वह भी कर रहे हैं। परन्तु सभी ने उनके इस प्रयास को नकार दिया। क्योंकि अब बहुत देर हो चुकी है जबकि यह प्रयास पहले भी किया जा चुका है।

परन्तु बात करते समय जब कोई फ़रीक़ यह तय करके बैठे कि मुझे तो यही करना है तो उस समय बातचीत से फ़ैसला नहीं होता। पूरी मुस्लिम क़ौम इस बात पर सहमत है कि हमें न्याय पालिका पर पूरा भरोसा है। वहाँ से जो भी फ़ैसला होगा वह हम सबको मान्य होगा।

सीम रिज़वी जैसे ज़मीर फ़रोश, क़ौम के दलालों से क़ौम को होशियार रहने की आवश्यकता है। कुम्मी ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार को चाहिये कि वसीम रिज़वी जैसे भ्रष्ट चेचरमैन को हटाकर किसी ईमानदार व्यक्ति को चेयरमैन बनाये।