लखनऊ। मजलिस-ए ओलमाए हिंद ने टीवी पत्रकार (Journalist) रोहित सरदाना के उस ट्वीट की निंदा की है जिसमें उन्होंने पैगम्बर मौ. साहब स.अ. की पुत्री और उनकी पत्नी की शान में अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया है।

On the wife and daughter of the Prophet sacked journalist with objectionable tweets
On the wife and daughter of the Prophet sacked journalist with objectionable tweets

मजलिस-एओलमाए हिंद के महासचिव मौलाना सैयद कल्बे जव्वाद नकवी ने कहा कि शियों ने कभी कोई ऐसी फिल्म या डॉक्यूमेन्टरी नहीं बनायी जो किसी धर्म के पवित्र हस्तियों का अपमान करे।

हम हमेशा ऐसे तत्वों के खिलाफ रहे हैं, जो धार्मिक हस्तियों के चरित्र को आहत करने की कोशिश करते हैं, चाहे वह किसी भी धर्म या इस समुदाय से संबंघ रखते हों।

उन्होंने कहा कि ऐसी तमाम चीजें जो सामने आती है जिनमें धार्मिक हस्तियों का अपमान किया गया हों, उसका इस्लाम से कोई संबंध नहीं है।

मौलाना ने कहा कि जिस पृष्ठभूमि में (Journalist) रोहित सरदाना ने ट्वीट किया है उस मामले का इस्लाम या हमारी मिल्लत से कोई संबंध नहीं है इसलिए ऐसे बयान देकर देश का माहौल खराब करने की कोशिश की जाती है।

ओलमा ए हिंद के सभी प्रन्तीय सदस्यों ने केंद्र सरकार और प्रशासन से मांग की है कि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए जो व्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर धार्मिक पवित्र हस्तियों का अपमान करते हैं।

हिंद ने कहा कि रोहित सरदाना का बयान निंदनीय है और उन्हें अपने इस बयान पर माफी मांगनी चाहिए। ओलमा ने कहा कि अगर वह माफी ना मॉगें तो उन्के खिलाफ कड़ी कारवाई होनी चाहिए।

बता दे कि बीते गुरूवार को रोहित सरदाना ने एक पत्रकार (Journalist) के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया था कि‘ अभिव्यक्ति की आज़ादी- फ़िल्मों के नाम सेक्सी दुर्गा, सेक्सी राधा रखने में ही है क्या? क्या आपने कभी सेक्सी फ़ातिमा, सेक्सी आएशा या सेक्सी मेरी जैसे नाम सुने हैं फ़िल्मों के?

जिसकी मौलाना हुसेना मेहदी हुसेनी, मौलाना मोहसिन तकवी, मौलाना नईम अब्बास मौलाना सफदर हुसैन मौलाना मो. हुसैन लुत्फी कारगिल, मौलमान मोहम्मद रजा गरवी गुजरात,और अन्य ओलमा ने इस ट्वीट की निंदा की है।