बीते 05 दिनों से बंदी से 200 करोड़ का नुकसान

कानपुर। केन्द्र सरकार देश में GST को शुक्रवार रात लागू करने जा रही है, लेकिन GST लागू होने के पहले ही व्यापारियों ने इसका विरोध शुरू कर दिया है। उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े शहर कानपुर में व्यापरियों ने जीएसटी के विरोध मेें अपने प्रतिष्ठान बन्द रखे। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल की अपील पर बंद को सभी व्यापार मंडलों ने समर्थन दे दिया है। अभी तक 50 से ज़्यादा व्यापार मंडल बंदी को समर्थन दे चुके हैं। व्यापार मंडल के सदस्यों ने जीएसटी के विरोध में प्रदर्शन किया और काले गुब्बारे छोड़े। इस दौरान कानपुर सेंट्रल रेलवे स्टेशन के नजदीक लखनऊ क्रॉसिंग पर ट्रेन को रोके जाने की भी खबर है।

उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा कपड़ा बाजार माना जाने वाला जनरलगंज बाजार पर जीएसटी का विरोध सबसे अधिक देखने को मिला है। यह बाजार पिछले 05 दिनों से बंद है। इस दौरान करीब 200 करोड़ के नुकसान होने की बात कही गयी है। इसके अतिरिक्त नयागंज स्थित किराना बाजार में भी व्यापारियों के बीच काफी आक्रोश व्याप्त है। काजू, किशमिश छोड़कर सभी पर टैक्स 12 प्रतिशत है, जिसे घटाकर 5 प्रतिशत करने की मांग की जा रही है। वहीं सोने पर 03 प्रतिशत जीएसटी लगने से सर्राफा व्यापारी भी नाखुश हैं।